You are welcome for visit Mera Abhinav Ho Tum blog

प्यास

आज मैं हालते जिंदगी के
उस मुकाम पे जा पहूँचा हूँ
जहाँ तेरी यादों के सिवा
कुछ भी नहीं ।

ना तेरी लवों की
वो मीठी मीठी बातें
ना तो पलकों में समाये
वो ढ़ेर सा प्यार,

सिर्फ अकेलापन
वो भी तेरा ही दिया हुआ
फिर भी न जाने क्यँ- ये दिल
बार बार - वक्त बेवक्त
सिर्फ तुमपे ही मिटने को मचलता है ।

वो भी आखरी साँस तक
जब तक कि न तुम आ जाओ,
और मेरे अधखुले होठों पे
अपनी प्यार की बँदों से
मेरी प्यास बुझा जाओ ।।