You are welcome for visit Mera Abhinav Ho Tum blog

भटका है जब से

भटका है जब से जिंदगी में
तेरी कदमों के निशां

भटक रहा हूँ दर-बदर
कोई मंजिल है कहाँ

क्या तेरा जाता 
गर ख्वाब के परदे
निगाहों से ना हटाती

लाकर उजाले में फिर क्यूँ
प्यार के दीपक बुझा दिये ।।