You are welcome for visit Mera Abhinav Ho Tum blog

Wednesday, October 8, 2014

भटका है जब से

भटका है जब से जिंदगी में
तेरी कदमों के निशां

भटक रहा हूँ दर-बदर
कोई मंजिल है कहाँ

क्या तेरा जाता 
गर ख्वाब के परदे
निगाहों से ना हटाती

लाकर उजाले में फिर क्यूँ
प्यार के दीपक बुझा दिये ।।