You are welcome for visit Mera Abhinav Ho Tum blog

Sunday, August 18, 2019

कहाँ थे पास कभी

''कहाँ थे पास कभी 
नजरों से ही दूर चले

मचलता दिल जहाँ 
वो दुनियाँ को ही छोड़ चले

क्या करुं कि जब 
ख्वाबों की तस्वीर बनी बैठी हो

तड़पता छोड़कर गमें दिल 
गमों से दूर चले।।''





Sunday, July 22, 2018

जुल्फें बिखेर इस कदर चेहरे पे

जुल्फें बिखेर इस कदर चेहरे पे 
इक अंदाज में, 
होंठो पे मुस्कान लिए

मीठी-मीठी अंगड़ाइयाँ भरती
आँखों में शबनम की छाँव लिए

आकर वो मेरे दिल में दस्तक दी 
और बोली-तुम्हारा दिल चाहिए
अपनें दिल में आइने के लिए।।

Saturday, October 7, 2017

MY LOVE

Don’t fade 
an impression 
of my love,

It enhance 
the confidence 
in my journey,
Who wants 
to be alone 
from his loved one?

Not determine 
with our desire 
is my fault,

Retraction always 
gives a tough result.

Friday, September 22, 2017

अपंग बच्चे

हमें दया कि भीख नहीं
हमको शिक्षा और प्यार दो।
स्वतंत्र देश में जन्में है हम
हमें अपना अधिकार दो ।।

हम है किसी से कम नही
यह अवसर पे समझायेंगें
मुश्किल आयेंगी जितनी चाहें
आगे बढ़ते जायेंगें।

हम बच्चें है इस मातृभूमि के
हमको अच्छा संस्कार दो
हमें दया कि भीख नहीं
हमको शिक्षा और प्यार दो ।

मिलेंगी हमको अवसर तो
एक नया इतिहास बनायेंगें
हम भारत की गौरव को
दुनिया-दुनिया तक पहूँचायेंगें ।

हम है बच्चें मन के सच्चें
अपना सपना साकार दो।
हमें दया कि भीख नहीं
हमको शिक्षा और प्यार दो ।।

जिंदगी में उमंगें

जिंदगी में उमंगें और 
तम्मना का साथ हो

खुशियों और चाहत से 
सजी बारात हो

होंठों पे मुस्कुराहट हो 
हर पल गुलाब सी 

बाग में ना माली को 
खुद का एहसास हो ।।

Featured Post

कहाँ थे पास कभी