You are welcome for visit Mera Abhinav Ho Tum blog

Friday, March 3, 2017

यादों का सहारा

हर हाल में जी लुँगा 
तेरी यादों का सहारा लेकर 
प्यार की दरिया का एक किनारा लेकर
पार कर लुँगा 
कश्ती का सहारा लेकर
हर हाल में जी लुँगा .....

जानता हूँ है ये मुश्किल 
भुला देना जिगर से तुझको
लेकिन मैं भुला दुँगा 
वादों का सहारा लेकर
हर हाल में जी लुँगा .....

मेरे हमराज मेरे साथी
मुझको ना भुला देना
मैं खुद भुला दुँगा 
दर्द का सहारा लेकर 
हर हाल में जी लुँगा .....

Featured Post

कहाँ थे पास कभी