You are welcome for visit Mera Abhinav Ho Tum blog

Sunday, August 18, 2019

कहाँ थे पास कभी

''कहाँ थे पास कभी 
नजरों से ही दूर चले

मचलता दिल जहाँ 
वो दुनियाँ को ही छोड़ चले

क्या करुं कि जब 
ख्वाबों की तस्वीर बनी बैठी हो

तड़पता छोड़कर गमें दिल 
गमों से दूर चले।।''





Featured Post

कहाँ थे पास कभी