You are welcome for visit Mera Abhinav Ho Tum blog

Wednesday, June 29, 2016

अजीब मंजर है

अजीब मंजर है कि 
हर शक्स पे है नशा छाई
जिसको देखो वही है 
खुद की चाहत पायी

मगर उलझा है यहाँ हर शक्स 
कहीं ना कहीं
किसी को दर्द है काँटों का 
तो कोई फूलों से है जख्म खायी।।